भारत के वित्तीय बाजार में निवेश कैसे करे?

Updated on     Kisan Patel

बैंक बचत और नियमित आय (income) आपकी संपति बढ़ाने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकती। शेर बाजार में निवेश, ऋण […]

बैंक बचत और नियमित आय (income) आपकी संपति बढ़ाने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकती। शेर बाजार में निवेश, ऋण बाजार(Debt Instruments) और यहाँ तक कि commodities मार्केट आपकी संपति बढ़ाने में मदद कर सकता हैं और यहाँ तक कि वह आय का एक अतिरिक्त स्त्रोत साबित हो सकता है। और सबसे महत्वपूर्ण बात, निश्चित आय जैसे bank fixed deposits और संपतियो के विपरीत इक्विटी निवेश हमें मुद्रास्फीति को हराने में मदद कर सकता हैं।

भारत के वित्तीय बाजारों में निवेश करने के कई तरीके हैं।

Secondary Market

Secondary Market वह बाजार है जहां पहले से ही जारी किए गए वित्तीय साधनों जैसे बांड, शेयर, आदि खरीदे जाते हैं और बेचे जाते हैं।

Primary Market

Primary Market वह बाजार है जहाँ एक कंपनी या सरकार पहली बार खरीदारों के लिए शेयर जारी कराती हैं। इसे Initial Public offerings और IPO कहते हैं।

बॉन्ड

कंपनियों को परियोजनाएं शुरू करने के लिए धन की आवश्यकता है यदि वे इस पैसे को बैंकों से उधार लेते हैं, उन्हें ऋण कहा जाता है, जिसके लिए उन्हें नियमित ब्याज भुगतान करना पड़ता है हालांकि, अगर कंपनी समय पर ब्याज भुगतान की शर्त पर कई निवेशकों से पैसे जुटाती हैं, तो उसे बॉन्ड कहा जाता है। बॉन्ड्स पर मिलने वाले ब्याज/इंटरेस्ट (interest) को कूपन (coupon) भी कहा जाता है. बॉन्ड्स एक निश्चित समय सीमा के लिए जारी किये जाते है, जिसके बाद बॉन्ड के धारक को उसका धन वापस मिलता है. जैसे की 1 साल, 2 साल, 5 साल, 10 साल या 30 साल आदि. बॉन्ड्स की समाप्ति की तारीख को उसकी मेचुरिटी डेट (maturity date) भी कहते है।

म्यूचुअल फंड्स

म्यूचुअल फंड्स के जरिए कोई भी व्यक्ति अप्रत्यक्ष रूप से बॉन्ड या इक्विटी में निवेश कर सकता है। म्यूचुअल फंड विभिन्न निवेशकों से पैसा जमा करते हैं और फिर उन्हें विभिन्न वित्तीय साधनों जैसे स्टॉक, बॉन्ड और सोने में निवेश करते हैं। म्यूचुअल फंडों के माध्यम से निवेश करने का लाभ यह है कि फण्ड मेनेजर इस पैसे को विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश करने के लिए अपने निवेश प्रबंधन कौशल का उपयोग करता है. म्यूचुअल फंड कई तरह से निवेश करता है जिससे उसका रिस्क और रिटर्न निर्धारित होता है।

इसके अलावा म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा फायदा यह है की एक निवेशक जिसे बाज़ार की अधिक जानकारी नहीं है वह अपना निवेश विशेषज्ञों के हाथ में छोड़ देता है. कहाँ, कैसे और कब निवेश करना है यह विशेषज्ञ निर्धारित करते हैं।

डेरिवेटिव मार्केट

डेरिवेटिव की सहायता से आप इक्विटी या कमोडिटी या मुद्रा के वायदा में आज तय कीमत पर व्यापार कर सकते हैं डेरिवेटिव भविष्य के बाजार जोखिमों के बचाव के लिए काम में लिए जाते हैं क्योंकि उनके पास शेयर की कीमतों के विपरीत भविष्य की तारीख के लिए निश्चित मूल्य होता है जो हर दिन में उतार-चढ़ाव करते रहते हैं।


Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *